मुस्लिम दलितों को आरक्षण दिलाने की मांग, अनुच्छेद 341 में होना चाहिए संशोधन

रिपोर्ट- अर्सलान समदी

लखनऊ। आरक्षण की मांग को लेकर तमाम वर्ग समय-समय पर मांग उठाते रहे है वहीं अब संविधान के आर्टिकल 341 (3) द्वारा धर्म के आधार पर मुसलमानों और ईसाईयों को आरक्षण से वंचित रखने के विरोध में अब आवाज़ बुलंद होने लगी है।

आरक्षण की मांग

राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को ऑल इंडिया मजलिस ए मुशावरत के बैनर तले एक बैठक का आयोजन किया गया। जिसमें मुसलमानों और ईसाई धर्म मे मौजूद दलित वर्ग को आरक्षण देने की मांग की गई और संविधान में आर्टिकल 341 के पैरा नंबर 3 को खत्म करने की मांग उठाई। जिसमें हिन्दू दलितों को सिर्फ आरक्षण देने की बात कही है।

यह भी पढ़े: उत्तर प्रदेश डिफेंस इन्डस्ट्रियल कॉरिडोर की बैठक में रक्षामंत्री सहित दर्जनो मंत्री लेंगे भाग

इस मौके पर ऑल इंडिया मजलिस ए मुशावरत के प्रदेश अध्यक्ष और पूर्व आईएएस अधिकारी अनीस अंसारी ने कहा कि 10 अगस्त 1950 को तत्कालीन भारत सरकार ने एक शर्त लगा दी थी जिसमें रिज़र्वेशन का हक सिर्फ हिन्दू दलितों को मिलेगा जिसपर अनीस अंसारी का कहना है कि यह संविधान के खिलाफ था जिसे हटाना चाहिये इसके साथ ही देश के राष्ट्रपति के नाम एक ज्ञापन भी भेजा गया है जिसमें आर्टिकल 341 के पैराग्राफ नंबर 3 को हटाए जाने की मांग की है।

loading...