मुन्ना बजरंगी की हत्या में आया नया मोड़, पुलिस के सामने खड़ी हुई बड़ी चुनौती

लखनऊ| डॉन मुन्ना बजरंगी की हत्या में बड़ा खुलासा हुआ है। जांच दल ने बागपत जेल में घटनास्थल पर मिली पिस्टल को फोरेंसिक जांच के लिए भेजा था। जांच में यह बात सामने आई की बरामद पिस्टल से निकली गोली से बजरंगी की हत्या नहीं हुई है। प्राथमिक रिपोर्ट में यह खुलासा होने के बाद अब वैज्ञानिकों की टीम शव से बरामद गोलियों के आधार पर विस्तृत परीक्षण कर रही है।

MUNNA

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में बागपत जिले की जेल में अंडरवर्ल्ड डॉन प्रेम प्रकाश सिंह उर्फ मुन्ना बजरंगी की सुनील राठी ने गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस वारदात के बाद जेल प्रशासन से लेकर लखनऊ तक अधिकारियों में हड़कंप मच गया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पूरे मामले की जांच कराने का आदेश दिया था।

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, मुन्ना बजरंगी की हत्या पश्चिमी उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में सक्रिय सुनील राठी ने की है। सुनील ने यह जुर्म कबूला भी था। सुनील राठी यूपी के साथ उत्तराखंड में सक्रिय है। सुनील की मां राजबाला छपरौली से बसपा से चुनाव लड़ चुकी है।

यह भी पढ़े: बाहुबली ‘राजा भैय्या’ के पिता को प्रशासन ने किया नजरबंद, खतरे में कुंडा की शांति

माफिया मुन्ना बजरंगी को बागपत अदालत में पेश करने के लिए पुलिस कड़ी सुरक्षा के बीच को एंबुलेंस से भेजा गया था। मुन्ना बजरंगी पर एक पूर्व विधायक और उसके भाई को धमकाने का आरोप है। इस मामले की सुनवाई सोमवार को होनी थी।

मामले के बाद योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि , ” जेल में हत्या कैसे हो गई। इसकी जांच कराई जाएगी और इसमें जो भी दोषी होगा उसे बख्शा नही जाएगा।

loading...