द क्विंट पर आयकर ‘सर्वे’, एडिटर्स गिल्ड ने की निंदा

नई दिल्ली| आयकर अधिकारियों ने गुरुवार को कथित कर चोरी को लेकर न्यूज पोर्टल द क्विंट के प्रमुख राघव बहल के आवास और कार्यालय परिसरों का ‘सर्वे’ किया। अधिकारियों के मुताबिक, एक टीम मामले से संबंधित जारी जांच के लिए सबूतों और दस्तावेजों की तलाश में उत्तर प्रदेश के नोएडा स्थित बहल के आवास पर पहुंची। बहल नेटवर्क 18टीवी के पूर्व प्रमुख रहे चुके हैं।

editors guild

एक वरिष्ठ कर अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि कुछ विशेष कंपनियों की बिक्री से अर्जित फर्जी दीर्घकालिक पूंजी लाभ के मुद्दे पर तीन अन्य लोगों के परिसरों का भी सर्वे किया गया।

अधिकारी ने कहा, “मामला करीब 100 करोड़ रुपये का है। हम मामले को विशेष रूप से कर चोरी कोण से देख रहे हैं।”

संपादकों की संस्था एडिटर्स गिल्ड ने सरकार की कार्रवाई को लेकर चिंता जताई और कहा कि ‘आयकर के प्रायोजित सर्वे और खोजबीन’ मीडिया की स्वतंत्रता को नुकसान पहुंचाएंगे।

गिल्ड ने इस बात का संज्ञान लिया कि बहल को अधिकारियों को चेतावनी देनी पड़ी कि अगर उन्होंने कर मुद्दे के अलावा किसी और चीज को छूने का प्रयास किया तो उन्हें अत्यंत कदमों का सहारा लेना पड़ेगा।

कर अधिकारियों ने कहा कि जिन तीन अन्य लोगों के परिसरों आयकर सर्वे के दायरे में आए हैं, उनमें कमल लालवानी, अनूप जैन और अभिमन्यु चतुर्वेदी शामिल हैं।

एडिटर्स गिल्ड को लिखे एक नोट में बहल ने कहा कि द क्विंट पूर्ण रूप से एक कर अनुपालन इकाई है और वह सभी उचित वित्तीय दस्तावेज तक पहुंच मुहैया कराएंगे।

यह भी पढ़े: योगी-शाह के इस प्लान से ध्वसत हो जायेगा ममता का किला, 2019 में पश्चिम बंगाल पर होगा बीजेपी का राज

एडिटर्स गिल्ड ने एक बयान में कहा कि कर विभाग को जांच करने का पूरा हक है लेकिन उसे अपनी शक्तियों का इस्तेमाल इस तरीके से नहीं करना चाहिए जिससे वह सरकार की आलोचना करने वालों को दी गई धमकी जैसा दिखे।

बयान में कहा गया, “गिल्ड को लगता है कि प्रायोजित आयकर छापे मीडिया की स्वतंत्रता को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचाएंगे और सरकार को इस तरह के प्रयास बंद कर देने चाहिए।”

loading...