जब आउट होने पर रोने लगे थे द्रविड़, जानिए उनसे जुड़े 5 इंटरेस्टिंग फैक्ट्स

भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ का आज Happy birthday है आज राहुल का 44वा जन्मदिन है .राहुल का जन्म 11 जनवरी 1973 को मध्य्प्रदेश के इंदौर में हुआ था. इन्होंने अपने शानदार प्रदर्शन के बदौलत ही “दिवार” और “मिस्टर”  जैसे नाम कमाए है. 
उनके नाम पर इंटरनेशनल क्रिकेट में कई रिकॉर्ड जुड़े है. 

राहुल मौजूदा समय में अंडर 19 इंडियन टीम कोच है. इनके मार्गदर्शन में अंडर 19  टीम ने कई मैच जीते है. बता दे चले कि  द्रविड़ के नाम पर सबसे ज़्यादा कैच लेने का रिकॉर्ड दर्ज है. इसके साथ ही उन्होंने टेस्ट मैच और वनडे मैच में 10,000 से ज़्यादा रन बनाये है   
 
द्रविड़ की उपलब्धिया 

टीम इंडिया की और से सिर्फ सचिन और राहुल ही ऐसे दो ही खिलाडी रहे है जिन्होंने टेस्ट मैच और वनडे मैच में दोनों ही फॉरमैट में 10,000 से ज़्यादा रन बनाये है. द्रविड़ ने टेस्ट में 52.31 की औसत से 13,288 रन बनाए हैं, जिसमें 36 सेंचुरी और 63 हाफसेंचुरी शामिल हैं। वहीं वनडे की बात करें तो द्रविड़ ने 344 मैचों में 39.16 की औसत से 10,889 रन बनाए हैं। द्रविड़ ने 12 वनडे सेंचुरी ठोकी हैं   
द्रेविड  का पहला क्रिकेट 

द्रविड़ ने महज 13 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया था. वही खेल के दौरान आउट हो जाने पर  द्रविड़ रोने भी लगे थे. इस बात का खुलासा राहुल ने खुद एक इंटरव्यू के दौरान किया, उन्होंने बताया कि ‘ये मेरी जिंदगी का सबसे इंबैरसिंग दिन था, मैं 13 साल का था. आउट होने के बाद मैं ड्रेसिंग रूम तक रोते हुए गया था                           

2007 ICC वर्ल्ड कप 

2007 में हुए वर्ल्ड कप में हमे राहुल की कप्तानी देखने को मिली थी. वेस्टइंडीज में हुए इस वर्ल्ड कप के पहले ही मैच में टीम इंडिया को हार का सामना करना पड़ा था

 राहुल का गुस्सा 

द्रविड़ ऐसे खिलाडी रहे है जिन्हें मैदान पर गुस्सा कम करते हुए देखा गया है. इन्हें टीम का सबसे शांत खिलाडी भी माना गया है. लेकिन 2004 में प्रेसकॉन्फ्रेंस के दौरान मीडिया द्वारा राहुल से मैच फिक्सिंग से सम्बंधित पूछे गए सवाल पर राहुल ने गुस्से में जवाब देते हुए कहा था कि  ‘इस शख्स को कोई बाहर निकालो. ये बकवास है. इस तरह की बातें खेल के लिए खराब हैं . उसके बाद  2006  में  मुम्बई में इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच न खेल पाने पर  द्रविड़ ने गुस्से में ड्रेसिंग रूम में कुर्सी उठाकर फेंकी थी. 
                                      
  ICC क्रिकेट में राहुल के रिकॉर्ड     
         
2004 में शुरू हुए आईसीसी अवार्ड में राहुल को टेस्ट प्लेयर ऑफ द ईयर और प्लेयर ऑफ द ईयर की ट्रॉफी  से नवाज गया था.इसके साथ ही राहुल 2016  तक एक मात्र ऐसे खिलाडी है जिन्हें एक साल में दो ट्रॉफी मिली है, वही  2016 में आर अश्विन ने उनकी बराबरी की। अश्विन को 2016 में टेस्ट प्लेयर ऑफ द ईयर और प्लेयर ऑफ द ईयर चुने गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *