एचआईवी टीका के लिए आईएवीआई की अनोखी पहल, जानें वजह

नई दिल्ली। इंटरनेशनल एड्स वैक्सीन इनिशिएटिव (आईएवीआई) ने एचआईवी टीका विकसित करने की दिशा में एक अनोखी पहल शुरू की है। इस पहल के तहत एचआईवी की रोकथाम में कारगर एक विशेष प्रकार के ताकतवर प्रोटीन बनाने के लिए पहला कदम बढ़ाते हुए पहले चरण का परीक्षण शुरू करने की घोषणा की गई है। आईएवीआई के प्रेसिडेंट और सीईओ मार्क फीनबर्ग ने कहा, “दुनिया में एचआईवी के संक्रमण की रोकथाम करने के लिए एक नई विधि की जरूरत है।”

एचआईवी

एमडी और पीएचडी की डिग्री प्राप्त फीनबर्ग ने कहा, “सौभाग्य से एक नई पीढ़ी का एचआईवी इम्यूनोजेन कैंडिडेट (दवा) का नैदानिक परीक्षण शुरू किया जा रहा है।”

उन्होंने कहा कि अत्यंत परिष्कृत और उत्कृष्ट टीका विज्ञान का उपयोग करके इसे विकसित किया जा रहा है और टीका बनाने की दिशा में एक मिसाल के रूप में पेश किया जा रहा है, जिसका लक्ष्य एचआईवी संक्रमण से सुरक्षा के लिए विशेष प्रतिरक्षी पैदा करना है।

फीनबर्ग ने कहा, “हमारा लक्ष्य एचआईवी संक्रमण की रोकथाम के लिए बेहतर टीका बनाना है। इसी लक्ष्य को ध्यान में रखकर यह नैदानिक परीक्षण शुरू किया गया है।”

महिलाओं में पुरुषों से ज्यादा मोटापे का खतरा, छींन सकता है मां बनने का अस्तित्व

आईएवीआई के न्यूट्रलाइजिंग एंटीबॉडी सेंटर (एनएसी) के वैक्सीन डिजाइन के निदेशक डॉ. विलियम सीफ की प्रयोगशाला में इस दवा को विकसित किया गया है। डॉ. सीफ ने कहा, “इस परीक्षण में हमारा लक्ष्य यह साबित करना है कि विशेष रूप से लक्षित ‘बी’ कोशिकाओं से अनुक्रिया मिलना संभव है।”

देखें वीडियो:-

loading...