इन कारणों से एक बार आपको यहां जाना ही होगा, मिलेगा अनुपम अहसास

थकावट भरी जिंदगी में कभी-कभी शांति के कुछ पल भी चाहिए होते हैं। जो आपको आराम और फ्रेश फील करा सकें। इसलिए कुछ दिनों के बाद आपको ट्रैवलिंग की भी आवश्यकता पड़ती है। ऐसे में अगल आपको प्राकृति से संबंधित कहीं जाने को मिल जाए तो आपका मजा दोगुना हो सकता है। इस स्थान से आपको फ्रेश भी फील होगा साथ ही अपने काम पर तरोताजा भी महसूस करेंगे।

ट्रैवलिंग

आज हम आपको जम्मू-कश्मीर के द्रास के बारे में आपको बताने जा रहे हैं। जो काफी ठंडा स्थान है। इस शहर को लद्दाख का प्रवेश द्वार भी कहा जाता है। द्रास समुद्र से 10,800 फीट पर है। यह नगर श्रीनगर से 140 कि.मी और सोनमर्ग से 63 कि.मी की दूरी पर स्थित है।

भारत का सबसे ठंडा स्थल

द्रास भारत का वो सबसे ठंडा स्थल है, जहां लोग आम शहरों की तरह रहते हैं, यह खासियत विश्व भर के प्रयटकों को यहां आने के लिए मजबूर करती है। समुद्र तल से यह नगर 10,800 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। सर्दियों के दौरान यहां का तापमान -20 डीग्री तक चला जाता है। सितंबर से अक्टूबर से मध्य यहां का तामपान 23 डिग्री के आसपास रहता है, इस दौरान आप यहां की यात्रा कर सकते हैं।

ट्रैवलिंग

यह भी पढ़ें- 

कारगिल वॉर मेमोरियल

द्रास भ्रमण का दूसरा सबसे बड़ा कारण है, यहां मौजूद कारगिल वॉर मेमोरियल जिसे द्रास वॉर मेमोरियल के नाम से जाना जाता है। यह स्मारक स्थल तोलोलिंग हिल्स की तलहटी में स्थित है, जिसे इंडियन आर्मी ने बनाकर तैयार किया है। इस स्मारक स्थल का का निर्माण 1999 भारत-पाक कारगिल युद्ध में शहिद हुए भारतीय सैनिकों की याद में बनाया गया है। यहां उन शहीदों के नाम भी अंकित हैं। पर्यटक यहां आकर इस स्मारक स्थल को देख सकते हैं। पहाड़ियों के बीच बना यह स्मारक स्थल और यहां लहराता तिरंगा देश प्रेमी की भावन को और भी दृढ़ करता है। हर भारतीय को यहां एक बार जरूर आना चाहिए।

ट्रैवलिंग

जोजिला पास

यहां आने का एक और मुख्य कारण जोजिला पास या जोजिला दर्रा है। यह भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य स्थित एक बड़ा पहाड़ी रास्ता है, जो एनएच -1 पर श्रीनगर और लेह के बीच हिमालय के पश्चिमी भाग में स्थित है। यह द्रास घाटी से बहुत ही नजदीक है, इसलिए साहसिक ट्रैवलर यहां आना भी पसंद करते हैं। जोजिला, श्रीनगर से 100 कि.मी और सोनमर्ग से 15 कि.मी की दूरी पर स्थित है। यह दर्दा लद्दाख को कश्मीर घाटी से जोड़ने का काम करता है। एक रोमांचक सफर के लिए आप यहां आस सकते हैं।

यह भी पढ़ें- 

सुरु वैली ट्रैक

चूंकि यह एक पहाड़ी स्थल है, इसलिए आप यहां ट्रेकिंग जैसी एडवेंचर गतिविधियों का आनंद ले सकते हैं। आप सुरु वैली से द्रास तक ट्रेकिंग का सबसे रोमांच भरा अनुभव ले सकते हैं। अगर आपको प्राकृति सुंदरता के साथ रोमांच का भी शौक है तो यहां जरूर आएं। ट्रेकिंग के दौरान आप पर्वतीय घाटियों की सौंदर्यता का आनंद जी भरकर ले सकते हैं। बर्फीले पहाड़ों को देखना अपने आप में काफी रोमांचक एहसास दिलाता है। कुछ अलग अनुभव करने के लिए आप यहां आ सकते हैं।

 

 

loading...