अब शैंपू से नहीं गाजर से दूर होगी रूसी

बालों की समस्याएं सिर्फ महिलाओं में ही नहीं बल्कि पुरुषों में भी देखने को भी मिलती है। हम सभी कभी न कभी रूसी या डैंड्रफ का शिकार जरूर होते हैं। डैंड्रफ के कारण ही बाल गिरते हैं। डैंड्रफ का इलाज अगर समय पर न किया जाए तो यह समस्यात हमारे स्वाास्य्रत  के लिए घातक साबित हो सकती है। अगर आपको भी यह समस्या  है तो हम बताने जा रहे हैं आपको कुछ आयुर्वेदिक उपाय जिनका प्रयोग करके आप इससे निजात पा सकते हैं।

रूसी

रूसी क्यों होती है

कम पानी पीने या फिर भोजन में पोषक तत्वों की कमी के कारण भी डेंड्रफ हो सकता है।

युवावस्था में अधिक मात्रा में हॉर्मोंन्स रिलीज होने से भी डैंड्रफ हो सकती है।

सीबम उत्पन्न करने वाली ग्रंथियों के ज्यादा सक्रिय होने की वजह से डैंड्रफ होता है।

बालों की ठीक तरह से सफाई न करना, बालों को सही पोषण न मिलना या फिर बालों में तेल न लगाने से डैंड्रफ हो सकती है। अधिक तनाव या पसीने के कारण भी ये समस्या पनप सकती है।

यह भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट ने कुष्ठ रोग के प्रति जागरुकता बढ़ाने के दिए निर्देश, जानें क्या है यह रोग

आयुर्वेदिक उपाय

खान-पान बालों की सेहत के लिए मायने रखता है। हरी पत्तेदार सब्जियां, अंकुरित अनाज, ककड़ी, उबली हुई सब्जियां, फलियां, गाजर आदि को भोजन में शामिल करें। कोलेस्ट्रॉल बालों की ग्रोथ में भी बाधक है। इसीलिए इसकी मात्रा कम ही होनी चाहिए।

एंटी-डेंड्रफ हर्बल शैंपू का इस्तेमाल डैंड्रफ को कम करने में उपयोगी होता है या फिर विटामिन ई ऑयल से स्कॉप्ल की मालिश की जा सकती है।

रोज रात को बालों की जड़ों में सरसों के तेल से मालिश कीजिए। सुबह शिकाकाई पानी में उबाल कर उस पानी से बाल धो लें।

रूसी

डैंड्रफ की समस्या होने पर स्कॉल्प की सफाई का ध्यान रखना आवश्यक है। इसीलिए सप्ताह में दो-तीन बार अच्छा हर्बल शैंपू करना चाहिए और बालों को अच्छी तरह से कण्डीशनिंग करनी चाहिए।

बालों में तेल लगाने के बाद स्टीम्ड तौलिए का प्रयोग करना भी अच्छा रहता है या फिर गर्म तेल से स्कॉल्प की मसाज करने से सिर की त्वचा को पोषण मिलता है।

खाने-पीने का खासा ध्यान रखना जरूरी होता है। ऐसे में खूब पानी पीना चाहिए।

यह भी पढ़ें- आंखों से रोशनी नहीं लेकिन कुछ रंगों को पहचान करने की क्षमता जरूर छीन लेती है यह बीमारी

अंडे का पीला भाग और खट्टे दही को मिक्स कर बालों में कम से कम आधे घंटे तक लगाने से डैंड्रफ को दूर किया जा सकता है।

आयुर्वेदिक शैंपू डैंड्रफ दूर करने के लिए अच्छा विकल्प है।

नारियल के तेल में कपूर मिलाकर लगाने से डैंड्रफ दूर होता है।

नीबू का रस और काली मिर्च पाउडर मिलाकर बालों की जड़ों में लगाना भी अच्छा रहता है।

अधिक स्ट्रांग तेल बालों का झड़ना बढ़ा सकता है। ऐसे में जड़ीबूटी युक्त नीम और काले तिल का तेल मिलाकर अधिक डैंड्रफ होने पर सप्ताह में कम से कम तीन बार लगाएं।

बालों को बार-बार कंघी मत कीजिए, नहीं तो स्कॉल्प से ज्यादा ऑयल निकलने से डेंड्रफ की समस्या भी बढ़ जाती है।

दही से सिर धोने पर भी डेंड्रफ से छुटकारा पाया जा सकता है।

ग्लीसरीन और गुलाब जल को रोज बालों की जड़ों में लगाने से ये समस्या दूर हो सकती है।

डैंड्रफ से बचने के लिए जैतून के तेल में अदरक के रस की कुछ बूंदे मिलाकर इसे बालों की जड़ों में लगाकर एक घंटे के लिए छोड़ दें और फिर शैंपू से धो दें।

 

 

loading...